Posts

स्वर्ग में विचार सभा का अधिवेशन - सारांश

Image
  प्रश्न 2. भारतेन्दु हरिश्चन्द्र के व्यंग्य चित्र ' स्वर्ग में विचार सभा का अधिवेशन ' का सारांश देते हुए इसमें निहित व्यंग्य को स्पष्ट कीजिए। ( 2018) अथवा “ भारतेन्दु जी द्वारा रचित निबन्ध ' स्वर्ग में विचार सभा का अधिवेशन ' का सारांश अपने शब्दों में लिखिए। उत्तर- युग- निर्माता साहित्यकार भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का सर्जनात्मक व्यक्तित्व बहुमुखी था। वह सहृदय कवि , नाटककार , निबन्धकार , सम्पादक और अनुवादक होने के साथ-साथ उच्च कोटि के देशभक्त और हिन्दी प्रेमी थे। उन्होंने तन-मनधन से हिन्दी भाषा और उसके साहित्य-संसार को अपनी रचनाओं से समृद्ध किया। भारतेन्दु जी ने अनेक विषयों पर विचारपूर्ण निबन्ध लिखे हैं , जिनमें हास्य और व्यंग्य से परिपूर्ण निबन्ध ' स्वर्ग में विचार सभा का अधिवेशन ' अधिक चर्चित हुआ। इस निबन्ध में भारतेन्दु जी ने उन्मुक्त कल्पना का प्रयोग कर अपने युग के दो महान् समाज सुधारकों- स्वामी दयानन्द सरस्वती और बंगाल के केशवचन्द्र सेन के कृतित्व की समालोचना की है। स्वर्ग में दो दल- भारतेन्दु ने ब्रिटिश पार्लियामेण्ट के दो राजनीतिक दलों के समान स

व्यंग्य किसे कहते हैं - परिभाषा

Image
  प्रश्न 1. व्यंग्य किसे कहते हैं ? व्यंग्य की परिभाषा देते हुए उसके उदभव एवं विकास का संक्षिप्त परिचय दीजिए।   अथवा ‘’ व्यंग्य विधा के स्वरूप को स्पष्ट करते हुए उसका संक्षिप्त इतिहास प्रस्तुत कीजिए। अथवा ‘’ व्यंग्य विधा को परिभाषित करते हुए हिन्दी व्यंग्य विधा की विकास यात्रा पर प्रकाश डालिए। (2013) उत्तर- व्यंग्य एक प्रकार का निबन्ध रूप ही है , परन्तु इसकी वर्णन शैली ने इसे एक स्वतन्त्र विधा के रूप में प्रतिष्ठित कर दिया है। इसमें वैचारिकता के साथ व्यंग्यात्मकता अधिक होटी है। लेखक प्राय: सामाजिक , राजनीतिक एवं सांस्कृतिक विसंगतियों पर चोट करते हैं। परिवेश की घुटन , त्रासदी , पीड़ा और थोथी मान्यताओं को उभारते हैं , विभिन्न प्रतिक्रियाओं को पैने ढंग से उभारते हैं ,  यथार्थ और उसके प्रभाव परिणाम को प्रस्तुत करते हैं , इनकी शैली व्यंजना प्रधान और व्यंग्यात्मक होती है , ताकि पाठक यथार्थ स्थिति से परिचित हो सके और उसको ' सोच ' भी उभर सके। व्यंग्य की परिभाषा  डॉ. श्रीराम शर्मा के अनुसार , " इस रचना में हास्य व व्यंग्य की प्रधानता रहती है , डॉ. चन्द्रदत्त शर्

GK Practice Set - 04

Image
Practice Set-04 सामान्य ज्ञान , इतिहास , संविधान , Computer,  UP GK , Science   (  सही विकल्प बोल्ड फॉन्ट मे है ) 1. वर्ष 1975 में आपातकाल के समय भारत के राष्ट्रपति कौन थे ? (a) आर. वेंकटरमण (b) के. आर. नारायणन ( c) मोहम्मद हिदायतुल्ला ( d) फखरुद्दीन अली अहमद   2. ' लेबनान ' की राजधानी है (a) बेरुत ( b) त्रिपोली ( c) सीडोन ( d) टायर इस प्रैक्टिस सेट को  YOUTUBE  पर देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक  करे  , GK Practice Set For Lekhpal -04 on Youtube 3. कजाखिस्तान की मुद्रा निम्न में से कौन-सी है ? (a) फ्रैंक ( b) लोटी ( c) तेंगे ( d) शेकेल 4. दक्षिण अमेरिका में निम्न में से कौन-सा देश सबसे अधिक आबादी वाला देश है ? (a) बोलीविया ( b) ब्राजील ( c) पेरू ( d) चिली   5. एशिया के निम्न देशों में से कौन-सा देश तेल (पेट्रोलियम) का सबसे बड़ा उत्पादक देश है ? (a) सऊदी अरब (b) यमन ( c) ईरान (d) इराक   6. निम्न में से कौन-सा भारत का सबसे पुराना तेल (पेट्रोलियम) उत्पादक राज्य है ? (a) ओडिशा ( b) झारखण्ड ( c) असम ( d) मध्य प्र

Hindi Practice Set - 03

Image
सामान्य हिन्दी प्रैक्टिस सेट  -02  (  सही विकल्प बोल्ड फॉन्ट मे है ) सभी परीक्षाओ मे समान   रूप से उपयोगी   1.' एक शब्द ' विकल्प है ' उपकार को मानने वाला ( a) कृतज्ञ (b) कृतघ्न ( c) परोपकारी (d) धर्मज्ञ   2. अनेकार्थी शब्द का एक अर्थ है। “ कनक “ ( a) सोना ( b) चाँदी ( c) चावल ( d) कंगन इस प्रैक्टिस सेट को  YOUTUBE  पर देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक  करे  , Hindi Practice Set -03 on Youtube 3. रेखांकित पद के कारक पहचानिए। ' बोतल में दूध बचा है। ' (a) सम्बोधन कारक (b) अधिकरण कारक ( c) सम्बन्ध कारक (d) कर्म कारक 4. सही रूप पहचानिए। ' स्कूल बस पाँच मिनट ' सामान्य भविष्यत् काल ( a) में आ गई (b) में आएगी ( c) में आ के गई (d) में आ के चली गई 5. वाक्य की संरचना के आधार पर उसका भेद बताइए। " रवि दीवार रंगने लगा है। ' (a) कृदंत क्रिया (b) पूर्वकालिक क्रिया ( c) नामधातु क्रिया (d) संयुक्त क्रिया संयुक्त क्रिया - दो या दो से अधिक धातुओं के संयोग से बनने वाली क्रिया को संयुक्त क्रिया कहते हैं ' कृदन्त क

Important Question

भारतीय संविधान की 17 प्रमुख विशेषताएँ

शीत युद्ध के कारण और परिणाम

आंग्ल-फ्रांसीसी संघर्ष - कारण और परिणाम

अमेरिका के संविधान की 16 विशेषताएँ

संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना एवं उद्देश्य

गोपालकृष्ण गोखले के राजनीतिक विचार

न्याय की परिभाषा - अर्थ एवं प्रकार

फ्रांस की न्याय व्यवस्था - निबन्ध

कौटिल्य का सप्तांग सिद्धान्त

प्रयोजनमूलक हिंदी - अर्थ,स्वरूप, उद्देश्य एवं महत्व